Success Khan Logo

चक्रवृद्धि ब्याज Mathematics

Introduction: उधार लिए गए धनराशि को चुकाने के लिए एक निश्चित अवधि जैसे वार्षिक, छमाही अथवा तिमाही तय कर ली जाती है, इस अवधि के बाद के ब्याज को मूलधन में सम्मिलित करके बना मिश्रधन अगली अवधि के लिए मूलधन बन जाता है. प्रत्येक अवधि के लिए यही क्रिया दोहराई जाती है. अंत में बने चक्रवृद्धि और मूलधन का अंतर चक्रवृद्धि ब्याज कहलाता है

 



FORMULA with SOLVED EXAMPLES

यदि मूलधन = P, दर = r% वार्षिक, समय = t वर्ष तथा चक्रवृद्धि मिश्रधन A हो, तो

चक्रवृद्धि ब्याज Mathematics

Note: यदि ब्याज की दर तिमाही, छमाही तथा नौमाही हो, तो एक वर्ष में जितने तिमाही, छमाही तथा नौमाही होते हैं उतने से वार्षिक दर में भाग देते हैं तथा समय में उतने ही से गुणा करते हैं.

अर्थात् जब ब्याज तिमाही लगाया जाता है तो दर चौथाई तथा समय चौगुना कर देते हैं. इसी प्रकार जब ब्याज छमाही लगाया जाता है तो दर आधा तथा समय दुगुना कर देते हैं. जैसे-जब ब्याज छमाही देय हो, तो

चक्रवृद्धि ब्याज Mathematics
चक्रवृद्धि ब्याज Mathematics
चक्रवृद्धि ब्याज Mathematics
चक्रवृद्धि ब्याज Mathematics

 

Tricks with Trickily Solved Examples

Type-1

चक्रवृद्धि ब्याज Mathematics

 

चक्रवृद्धि ब्याज Mathematics
चक्रवृद्धि ब्याज Mathematics
चक्रवृद्धि ब्याज Mathematics
चक्रवृद्धि ब्याज Mathematics

 

Type-2

चक्रवृद्धि ब्याज Mathematics
चक्रवृद्धि ब्याज Mathematics

 

Type-3

चक्रवृद्धि ब्याज Mathematics
चक्रवृद्धि ब्याज Mathematics
चक्रवृद्धि ब्याज Mathematics
चक्रवृद्धि ब्याज Mathematics

 

Type-4

चक्रवृद्धि ब्याज Mathematics

 

Type-5

चक्रवृद्धि ब्याज Mathematics
चक्रवृद्धि ब्याज Mathematics

 

Type-6

चक्रवृद्धि ब्याज Mathematics
चक्रवृद्धि ब्याज Mathematics

 

Type-7

चक्रवृद्धि ब्याज Mathematics
चक्रवृद्धि ब्याज Mathematics

 

Type-8

चक्रवृद्धि ब्याज Mathematics
चक्रवृद्धि ब्याज Mathematics

 

Type-9

चक्रवृद्धि ब्याज Mathematics

 

Type-10

चक्रवृद्धि ब्याज Mathematics
चक्रवृद्धि ब्याज Mathematics

 

Type-11

चक्रवृद्धि ब्याज Mathematics
चक्रवृद्धि ब्याज Mathematics

 

Type-12

चक्रवृद्धि ब्याज Mathematics
चक्रवृद्धि ब्याज Mathematics






Explore