Success Khan Logo

चीनी क्रांति General Knowledge

▬ मंचू राजवंश का पतन 1911 ई० में हुआ।

▬ 1911 ई० में हुई चीनी क्रांति का नायक सनयात सेन था।

▬ 1905 ई० में सनयात सेन ने तुंग-मेंग दल की स्थापना की, जिसका उद्देश्य चीन में मंचू वंश के शासन को समाप्त करना था।



▬ क्रान्तिकारियों ने 29 दिसम्बर, 1911 ई० में सनयात सेन को अपनी सरकार का अध्यक्ष चुना।

▬ कावीनेड लीग सोसायटी का संस्थापक सनयात सेन था।

▬ 1911 ई० की क्रांति के बाद चीन में गणतंत्र शासन पद्धति की स्थापना हुई।

▬ युआन शीह काई के समर्थन में सनयात सेन ने अपना नेतृत्व वापस ले लिया।

▬ 1912 ई० सनयात सेन ने कुओमिनतांग पार्टी की स्थापना की। इस पार्टी के पुनर्गठन के लए सेन ने माइकेल बोरोदिन को आमंत्रित किया।

▬ सनयात सेन ने अपनी सेना के संगठन के लिए जनरल गैलेन को चुना।

▬ डॉ० सनयात सेन के तीन सिद्धान्त थे – राष्ट्रवाद, लोकतंत्रवाद और सामाजिक न्याय ।

▬ डॉ० सनयात सेन को चीन का राष्ट्रपिता कहा जाता है।

▬ डॉ० सनयात सेन की मृत्यू 1925 ई० में हो गयी।

▬ डॉ० सनयात सेन की मृत्यु के बाद च्यांग काई शेक ने 1926 ई० में कुओमिनतांग पार्टी का नेतृत्व संभाला।

▬ 1927 ई० में कुओमिनतांग से साम्यवादी लोग अलग हुए।

▬ चीन में गृह युद्ध 1928 ई० में शुरू हुआ।

▬ 1925 ई० को हूनान के विशाल किसान आन्दोलन का नेतृत्व माओत्से तुंग ने किया।

▬ माओत्से तुंग का जन्म 1893 ई० में हनान में हुआ था।

▬ च्यांग काई शेक ने केन्द्रीय सरकार की सत्ता नानकिंग में संभाली।

▬ च्यांग काई शेक ने अपनी सरकार की स्थापना फारमोसा में की।

▬ साम्यवादियों के दमन करने के लिए च्यांग काई शेक ने ब्लूशर्ट आतंकवादी दल का गठन किया।

▬ माओत्से तुंग के नेतृत्व में 1 अक्टूबर, 1949 ई० जनवादी गणराज्य की स्थापना चीन में की गई।

▬ चीनी साम्यवादी गणतंत्र का प्रथम अध्यक्ष माओत्से तुंग था।

▬ चीनी जनवादी गणराज्य का प्रथम प्रधानमंत्री चाऊ-एन-लाई था।

▬ चीन के जनवादी गणराज्य की राजधानी हूनान था।

▬ खुले द्वार की नीति चीन में अपनाई गयी थी।

▬ चीन के द्वार खोलने का श्रेय ब्रिटेन को दिया जाता है।

▬ खुले द्वार की नीति का प्रतिपादक जॉन ‘हे’ था।

▬ चीन ‘एशिया का मरीज’ के नाम से जाना गया।

▬ चीन की कम्युनिस्ट पार्टी की स्थापना 1921 ई० में हुई।







Explore