Success Khan Logo

हिन्दी लिंग एवं वचन बदलना

लिंग परिभाषा

संज्ञा के जिस रूप से किसे वस्तु के स्त्री या पुरुष होने का बोध हो उसे लिंग कहते है |
लिंग के दो भेद होते है – पुल्लिंग और स्त्रीलिंग |

पुल्लिंग – पुल्लिंग संज्ञा के उस रूप को कहते है जिससे उसके पुरुष होने का बोध हो | जैसे – घोडा , चना , लड़का , मंगल आदि |

स्त्रीलिंग – स्त्रीलिंग संज्ञा के उस रूप को कहते है जिससे उसके स्त्री होने का बोध हो , जैसे – सीता , लड़की, घोड़ी, टोपी , हवा आदि |



पुल्लिंग शब्द

नीचे लिखे शब्द सदा पुल्लिंग होते है —
1. महीनों के नाम – जनवरी , फरवरी , चैत , बैसाख आदि |
2. दिनों के नाम – सोमवार , मंगलवार आदि |
3. समय-सूचक नाम – क्षण , सेकण्ड , मिनट , घंटा , दिन, वर्ष , युग आदि |
अपवाद – रात , दोपहर , शाम , संध्या , सांझ (स्त्रीलिंग)|
4. पर्वतों के नाम – कैलाश , हिमालय , विंध्याचल आदि |
5. फलों के नाम – अमरुद , सेब , आम , केला आदि |
अपवाद – लीची (स्त्रीलिंग)|
6 देशों के नाम – भारत , कनाडा , जापान आदि |
7. द्रव्यों के नाम – घी , तेल , शरबत आदि |
अपवाद – चाय , लस्सी ( स्त्रीलिंग )|
8. वृक्षों के नाम – आम , नीम , कटहल आदि
9. अनाजों के नाम – चावल , गेंहू , चना आदि |
अपवाद – मकई , ज्वार (स्त्रीलिंग)|
10. ग्रहों के नाम – चंद्र , सूर्य , बृहस्पति आदि |
अपवाद – पृथ्वी (स्त्रीलिंग)|
11. धातुओं के नाम – लोहा , सोना, ताम्बा आदि |
अपवाद – चाँदी (स्त्रीलिंग )|
12. शरीर के कुछ अंग – सिर , मुँह , कान , होठ , गला , हाथ , पैर इत्यादि |
नोट : जिन शब्दों के अंत में आप , खाना , तव , आव , आ, आर , न , आवा , अदान, वाला, ऐरा, ख, ज , त्र , आदि जुड़े हों , पुल्लिंग होते है | जैसे – मोटापा , बुढ़ापा, दवाखाना, शस्त्र, नीरज, चायवाला , सपेरा आदि |

स्त्रीलिंग शब्द

निचे लिखे शब्द सदा स्त्रीलिंग होते है –
1. तिथियों के नाम – अमावस्या , पूर्णिमा , द्वितीया आदि |

2. नक्षत्रों के नाम – रोहिणी , अश्विनी आदि |

3. नदियों के नाम – गंगा , कृष्णा , कावेरी आदि |

4. लिपियों के नाम – देवनागरी , रोमन, गुरुमुखी आदि |

5. भाषाओं के नाम – हिंदी, तमिल, पंजाबी आदि |

6. शरीर के कुछ अंगों के नाम – जीभ , मूंछ , गर्दन आदि |

7. बोलियों के नाम – भोजपुरी , पहाड़ी , मगही आदि |

8. जिन शब्दों के अंत में ‘ई’ आते है – गरीबी , अमीरी आदि |

9. इन शब्दों के अंत में ‘ उ ‘ आते है – ऋतू , मृत्यु , आयु आदि |

10. जिन शब्दों के अंत में ‘ आ ‘ आते है – माला , कृपा आदि |

11. वे फ़ारसी शब्द जिनके अंत में ‘ त ‘ , ‘ ह ‘ आते है – दौलत , फतह , सुबह , अमानत आदि |

12. जिन शब्दों के अंत में आहट, आवट, आई , आरी , इया , त,री, आदि आते हों – घबराहट , बनावट, थकावट , लड़ाई, तैयारी, पुड़िया , ताकत , पारी आदि |

पुल्लिंग से स्त्रीलिंग बनाने के कुछ महत्त्वपूर्ण नियम –

1. ‘ई’ जोड़कर – नर-नारी , देव-देवी आदि |

2. आकारांत को इकारांत करके – लड़का – लड़की , घोडा-घोड़ी आदि |

3. आकारांत के ‘ आ ‘ को हटाकर – भैंसा -भैंस आदि |

4. ‘आनी’ जोड़कर – देवर-देवरानी , जेठ-जेठानी आदि |

वचन परिभाषा

इसका (‘वचन’) का अर्थ है ‘ बोली ‘ किन्तु व्याकरण में इसका तात्पर्य है ‘ संख्या ‘ | वस्तु, संज्ञा, सर्वनाम, विशेषण और क्रिया के जिस रूप से संख्या का ज्ञान हो उसे ‘ वचन ‘ कहते है |

वचन का अर्थ – वचन का कार्य है संख्या बतलाना , मात्रा बतलाना नहीं |

वचन के भेद – हिंदी में वचन के दो भेद होते है – 1. एक वचन 2. बहुवचन

1. एकवचन – विकारी शब्द के लिए जिस रूप से एक का बोध होता है उसे एक वचन कहते है | जैसे – नदी, घोडा, लड़का, घडी आदि |

2. बहुवचन – विकारी शब्द के लिए जिस रूप से एक से अधिक का बोध हो उसे बहुवचन कहते है | जैसे – नदियां , घोड़े , लड़के, घड़ियाँ आदि |







Explore