Success Khan Logo

साझेदारी Quantitative Aptitude

Introduction:

साझेदारी (Partnership): जब दो या दो से अधिक व्यक्ति एक ऐसे व्यापार को चलाने के लिए सहमत होते हैं जो उन सब लोगों के द्वारा अथवा उनमें से किसी एक व्यक्ति के द्वारा सभी की ओर से चलाया जाता है तथा एक निश्चित समय के अन्त में वे लाभ अथवा हानि को एक निश्चित अनुपात में बांटते हैं, साझेदारी कहलाता है.

साझेदार (Partner): वे व्यक्ति जो साझेदारी के अन्तर्गत व्यापार चलाने के लिये सहमत होते हैं, व्यक्तिगत रूप से साझेदार कहे जाते हैं.

पूँजी (capital): साझेदारी के अन्तर्गत किसी व्यापार को चलाने के लिए साझेदारों द्वारा उपलब्ध कराया गया धन को साझेदारों की पूँजी कहा जाता है.




कार्यकारी साझेदार (Working Partner): ऐसे साझेदार जो साझेदारी में सक्रिय रूप से भाग लेता है, कार्यकारी साझेदार कहलाता है. व्यापार से प्राप्त लाभ में से उसे एक निश्चित धनराशि पारिश्रमिक के रूप में दिया जाता है जिसे कुल लाभ में से घटा दिया जाता है तथा शुद्ध लाभ को सभी साझेदारों के बीच उनके लाभालाभ अनुपात में बांट दिया जाता है.

साझेदारी को निम्नलिखित दो भागों में बांटा जा सकता है –

1. साधारण साझेदारी या सरल साझेदारी (Simple Partnership): इसमें सभी साझेदार अपनी-अपनी पूँजी समान समय के लिए लगाते हैं. अत: ऐसी साझेदारी में व्यापार से प्राप्त लाभ या हानि को साझेदारों द्वारा लगाई गई पूँजी के अनुपात में बाँट दिया जाता है.

2. जटिल साझेदारी या मिश्रित साझेदारी (compound Partnership): इसमें सभी साझेदार अपनी-अपनी पूँजी भिन्न-भिन्न समयों के लिए व्यापार में लगाते हैं, अत: इस साझेदारी में व्यापार से प्राप्त लाभ या हानि को साझेदारों द्वारा लगाई गई पूंजी तथा समय के गुणनफल के अनुपात में बाँट दिया जाता है.

Tricks with Tricky Solved Examples

Type-1
TRICK – यदि A तथा B समान समय के लिए पूँजी निवेशित किये हों, तो A का लाभांश (PA) B का लाभांश (PB) = A की पूंजी (CA) : B की पूंजी (CB)

साझेदारी Quantitative Aptitude

Type-2
TRICK– यदि A, B तथा C समान समय के लिए पूंजी निवेशित किये हों, तो A का लाभांश (PA): B का लाभांश (PB) : C का लाभांश (PC) = A की पूंजी (CA): B की पूंजी (CB): C की पूंजी (CC)

साझेदारी Quantitative Aptitude

Type-3

साझेदारी Quantitative Aptitude
साझेदारी Quantitative Aptitude

Type-4

TRICK– यदि A, B तथा C ने अपनी अलग-अलग पूंजी अलग-अलग समय के लिए निवेशित किये हों, तो A का लाभांश (PA): B का लाभांश (PB) = A की पूंजी × A का समय (CA × TA) : B की पूंजी  × B का समय (C× TB) : C की पूँजी × C का समय (CC × TC)

साझेदारी Quantitative Aptitude

Type-5

साझेदारी Quantitative Aptitude

Type-6

साझेदारी Quantitative Aptitude

Type-7

साझेदारी Quantitative Aptitude

Type-8

साझेदारी Quantitative Aptitude

Type-9

साझेदारी Quantitative Aptitude

Type-10

साझेदारी Quantitative Aptitude

Type-11

साझेदारी Quantitative Aptitude

Type-12

साझेदारी Quantitative Aptitude

Type-13

साझेदारी Quantitative Aptitude






Explore